तहसील प्रशासन ने मुआयना कर पीड़ित को दिया जल्द मुआवजे का आश्वासन, गरीब ग्रामीण के घर के ऊपर पेड़ गिरने से वादा बड़ा नुकसान, पेड़ हटवाने के लिए 2018 से अधिकारियों के लगाए सैकड़ों चक्कर


(ओमप्रकाश ‘सुमन’)

पलियाकलां-(खीरी)
आंधी पानी के दौरान ग्रामीण के घर के ऊपर विशालकाय पेड़ गिरने से उसका बड़ा नुकसान हो गया था। ग्रामीणों का आरोप था कि पेड़ गिरने की आशंका को लेकर वह 2018 से 2022 सितंबर तक दुर्घटना से पूर्व लगातार अधिकारियों के चक्कर काटता रहा। लेकिन किसी ने उसकी समस्या का समाधान नहीं किया था। जिसके बाद 15 सितंबर को आंधी पानी के दौरान वह पेड़ उसके घर पर गिर गया था जिससे उसका बड़ा नुकसान हुआ था। मीडिया में सुर्खियां बनने के बाद हरकत में आए प्रशासन ने ग्रामीण के घर का मुआयना करते हुए उसे जल्द मुआवजे का आश्वासन दिया। साथ ही उन पेड़ों को भी नीलाम करने की कार्रवाई को अंजाम दिया।
बता दें कि पलिया तहसील के गांव बुद्धा पुरवा में केशन पुत्र पुतान का छप्परनुमा मकान स्थित था। मकान के पीछे स्थित सरकारी विद्यालय में एक विशालकाय आम का वृक्ष खड़ा हुआ था। जिसके गिरने की संभावना को लेकर पीड़ित लगातार अधिकारियों से गुहार लगा रहा था। इतना ही नहीं पीड़ित ने विभिन्न अधिकारियों को एप्लीकेशन देकर हटवाने की मांग की और अधिकारी उक्त एप्लीकेशन पर पेड़ा हटवाने के कार्य में जुटे रहे। पीड़ित के मुताबिक 2018 से वह लगातार अधिकारियों के चक्कर काट रहा था अधिकारी उसे कागजों पर पेड़ हटवाने का आश्वासन तो दे रहे थे लेकिन धरातल पर किसी ने उसकी समस्या का कोई समाधान नहीं किया। पीड़ित ग्रामीण केशन के मुताबिक 15 और 16 सितंबर को तेज आंधी के साथ लगातार हुई बारिश में आखिरकार वह पेड़ ग्रामीण के घर पर गिर गया था। पेड़ जब ग्रामीण के घर गिरा तो वहां पर उसकी पत्नी व एक बच्ची आग ताप रही थी जो कि छुटपुट घायल हो गई। पीड़ित के मुताबिक वह पेड़ गिरने की संभावना को लेकर लगातार अधिकारियों के दर दर पर पहुंचकर अपनी फरियाद रख रहा था। मंगलवार को ग्रामीण की समस्या को मीडिया ने गंभीरता से लेते हुए प्रकाशित किया। जिसके बाद हरकत में आए प्रशासन के नुमाइंदे पीड़ित ग्रामीण के घर जा पहुंचे और जल्द मुआवजा दिलाए जाने का आश्वासन दिया। इसके साथ ही खंड शिक्षा अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और उक्त पेड़ों की नीलामी कराई।

Spread the love

About the Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.